Short History
 
 
संक्षिप्त परिचय

नेहरू कालेज छिबरामऊ, जनपद मुख्यालय कन्नौज से 45 कि.मी. पश्चिम शेरशाह सूरी मार्ग पर स्थित है। धर्म और जाति की संकीर्ण विचारधारा से इतर परस्पर सहयोग व सौहार्द की भावना पर आधारित हमारा यह महाविद्यालय नगर के दूषित प्रभावों से मुक्त, स्वस्थ एवं सात्विक परिवेश में अवस्थित ग्रामीण अंचल का शान्तिनिकेतन है व इसकी गणना विश्वविद्यालय के प्रथम कोटि के महाविद्यालयों में होती है।
1968 में सहकारी संघ लि0, छिबरामऊ के सहयोग से संस्थापित नेहरू कालेज छिबरामऊ की स्थापना के मूल आधार नगर के सम्मानित एवं प्रबुद्ध नागरिक कर्मव्रती स्व0 श्री राजकिशोर दुबे ने उत्सर्गशील सहयोगियों की सक्रिय सहायता के बल पर छिबरामऊ मेें विज्ञान का एक उच्च शिक्षा केन्द्र बनाने का दृढ़ निश्चय किया। स्व0 श्री दुबे जी के महान प्रयत्न के फलस्वरूप ही इस महाविद्यालय की परिकल्पना साकार हो सकी। 1973-74 में सहकारी संघ लि0 की सम्परीक्षा में सम्परीक्षा अधिकारी द्वारा की गई आपत्ति के कारण 10-12-1975 को सचिव, सहकारी संघ लि0 द्वारा पत्र लिखकर नेहरू कालेज को दी गई जमीनें व दुकानें वापस कर ली गयी तथा छात्रावास की जमीन की कीमत प्राप्त कर ली गयी।
नींव के यशस्वी पत्थरों में स्व0 डाॅ0 जनार्दन दत्त शुक्ला, आई.सी.एस. (तत्कालीन आयुक्त) का योगदान भी अविस्मरणीय रहेगा।
वर्ष 1968 में कानपुर वि.वि. से बी.एस-सी. गणित में सम्बद्धता होने के उपरान्त 1970 में बी.एस-सी. जीव विज्ञान 1971 में बी.ए. एवं 1973 में एम.एस-सी. रसायन विज्ञान एवं गणित की कक्षाएं महाविद्यालय में प्रारम्भ की गई।